आधार कार्ड के माध्यम से 6 बच्चों को मिली नई ‘जिंदगी’ जानिए आखिर कैसे

गैजेट

हिन्दी समाचार

अपने परिजनों से बिछुड़े छह बच्चों को आधार (यूआईडी) के माध्यम से उनका मूल घर मिला। बुधवार को पटना के समाज कल्याण विभाग के निदेशक राजकुमार की उपस्थिति में इन बच्चों को उनके परिजनों से मिलाया गया और उन्हें घर ले जाने की अनुमति दी गयी। ‘अपना घर’ परिसर में बच्चों को उनके परिजनों को सुपुर्द किए जाने के कार्यक्रम के दौरान उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

परिजनों को सौंपे गए इन बच्चों में चम्पिया (काल्पनिक नाम), पिता मंगिया निवासी पश्चिमी सिंहभूम झारखंड, मानव पिता बिजेंदर केसरवानी निवासी सागर मध्यप्रदेश, मोलू पिता जीवछ चौधरी निवासी मधुबनी बिहार, मुनीराज पिता रामचंद्र शर्मा निवासी सहरसा बिहार, कालू पिता रामकिशुन निवासी हरदोई उत्तरप्रदेश एवं इस्लाम पिता इकबाल निवासी दरभंगा शामिल थे।

निदेशक राजकुमार ने बताया कि जब बिछुड़े हुए बच्चों का आधार बनाने की प्रक्रिया शुरू की गयी तो छह का आधार पहले से बना हुआ पाया गया। उनके आधार नंबर के माध्यम से परिजनों को तलाशा गया। उन्होंने बताया कि इसके पूर्व भी छह बच्चों को उनके परिजनों से मिलाया गया। बाद में जानकारी ली गयी तो पता चला कि बच्चे अपने परिवार के साथ सकुशल व सामान्य जीवन बिता रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *