फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने कहा चुनाव दखलंदाजी रोकने के लिए जल्द करेगा उपाय

दुनिया

hindi news

फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने 3260 शब्दों में एक संस्मरणात्मक पोस्ट लिखकर 2016 से रूसी एजेंसियां द्वारा किए जा रहे दुष्प्रचार का कड़ा जवाब दिया है। मार्क ने फेसबुक की उन सुरक्षा मानकों को विस्तार से लिखा है जो उसने 2016 के अमेरिकी चुनावों के समय से अपना रखा है और रूसी एजेंसियां यह गलत सूचना फैलाकर उसे बदनाम कर रही हैं कि 870 लाख से अधिक फेसबुक उपयोगकर्ता असुरक्षित हैं और उनके डाटा में सेंध लगाई जा रही है।

जुकरबर्ग ने साफ किया है कि कंपनी द्वारा झेले जा रहे बड़े मुद्दों पर उनके विचारों को व्यक्त करने वाले पोस्ट की शृंखला का यह पहला पोस्ट है। अमेरिका में मध्यवर्ती चुनावों में अब दो महीने से भी कम बचे हैं। यहां फेसबुक यह बता रहा है कि वह कैसे इन चुनावों में दखलंदाजी से लड़ने की तैयारी कर रहा है-

1. फर्जी खातों की पहचान और हटाना
फेसबुक ने अक्तूबर 2017 से मार्च 2018 के बीच एक अरब से अधिक फर्जी खातों को बंद कर दिया है। जुकरबर्ग ने लिखा, बड़ी संख्या में खाते मिनटों में बनाए गए और वे कुछ नुकसान पहुंचाते, उससे पहले ही बंद कर दिए गए।

2. सुरक्षा पर खर्च
फेसबुक ने सुरक्षा और संरक्षा के लिए 20,000 से अधिक लोगों को तैनात किया है। पिछले साल इस काम में केवल 10,000 लोग ही तैनात थे। जुकरबर्ग कहते हैं, फेसबुक अपने सिस्टम को और सुधारने के लिए इस मद में लोगों और खुफिया सूचना जुटाने पर खर्च करना जारी रखेगा।

3. किसने दल के प्रचार का खर्च दिया, दिखेगा
मार्क लिखते हैं, आप अब अमेरिका में राजनीतिक या मुद्दा आधारित विज्ञापन देनेवाले की पहचान और जगह जानना चाहेंगे। हम यह सूचना देंगे और इससे खराब तत्वों की पहचान होगी और अमेरिका में विज्ञापन देनेवाले विदेशी तत्वों पर भी रोक लगेगी। फेसबुक सभी राजनीतिक विज्ञापनों का एक संग्रहालय बनाएगी। कोई भी इसे देख सकता है और उसके खर्च आदि के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकता है।

4. वायरल पोस्ट को हतोत्साहित करेंगे
जुकरबर्ग ने लिखा है, जहां कहीं भी वायरल पोस्ट में अफवाह होंगी और जो हिंसा फैलानेवाली होगी, हम उसे खत्म कर देंगे। हम वायरल अफवाहों को कमतर कर देंगे। जब पूछा गया कि कुछ पोस्ट को हटाया जाएगा जबकि कुछ को केवल अवनत क्यों किया गया है? जुकरबर्ग ने कहा कि सभी पोस्ट अफवाह अभियान के हिस्सा नहीं थे। जब भी एक फर्जी पोस्ट प्रमुखता से आएगी, फेसबुक इसे तुंरत तथ्यान्वेषी समूह को भेज देगी। अगर पोस्ट फर्जी हुआ तो इसे तुरंत अवनत कर दिया जाएगा और आगे इसके दिखने की संभावना 80 फीसदी कम हो जाएगी।

5. फेसबुक विज्ञापनों से कमाने को कठिन बनाकर
उन्होंने लिखा, हम ऐसे लोगों को ब्लॉक कर देंगे जो हमारे विज्ञापनों से पैसे बनाने के लिए बार-बार अफवाह फैलाएंगे। फेसबुक ऐसे पेज को रोक देगी जो नियमित रूप से अफवाह फैलाएंगे। इससे उन लोगों को कठिनाई हो जाएगी जो पैसे कमाने के लिए हमारा गलत उपयोग करना चाहेंगे।

6. सरकारों और कंपनियों के साथ सहयोग और समन्वय बढ़ाएंगे
चुनावों में दखल को रोकना किसी एक संगठन के लिए काफी बड़ा काम है। जुकरबर्ग ने लिखा, गंदे लोग खुद को एक ही काम तक सीमित नहीं रखते हैं इसलिए हम अकेले समस्या को नहीं सुलझा सकते। हम सरकारों और अन्य उद्यमियों के साथ 2016 से कहीं अधिक समन्वय और सहयोग स्थापित करेंगे। हर व्यक्ति इस काम में जुड़ेगा। उदाहरण के लिए जब फेसबुक एक गलत व्यक्ति की पहचान करेगा तो उसके खाते को बंद कर देगा। साथ ही उन सभी खातों को बंद करेगा जो इंस्टाग्राम और व्हाट्सऐप पर उस खाते से जुड़े होंगे। हम ट्वीटर जैसी कंपनियों को भी इसकी सूचना देंगे, जो आगे फर्जी खातों को बंद कर देगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *